शीघ्रपतन का इलाज : मात्र एक मिनट की एक्सरसाइज से

शीघ्रपतन का इलाज

“शीघ्रपतन का इलाज “के बारे में कुछ भी जानने से पहले हमें यह जानना जरुरी है कि “शीघ्रपतन की समस्या” क्या सच में मर्दों की एक कॉमन सेक्स समस्या है? क्या इस सेक्स समस्या पे उचित ध्यान न देने से  हँसते-खेलते दाम्पत्य जीवन में घुन लग सकता है?

यहां हम विस्तार से वैज्ञानिक तथ्यों व नई खोजों की प्रमाणिकता के साथ जानेंगे कि “शीघ्रपतन के कारण” क्या हैं और “शीघ्रपतन कैसे दूर करें”? इस लेख को पढ़ने के बाद शीघ्रस्खलन (premature ejaculation) से सम्बंधित आपकी अधिकांशतः समस्याओं का निदान हो जायेगा।

शीघ्रपतन क्या है (What is Premature Ejaculation)

सेक्स क्रिया के दरम्यान जब कोई मर्द औरत की योनी में लिंग प्रवेश करने के तुरंत बाद ही स्खलित (discharge) हो जाता है, तब इसे ही शीघ्रपतन या शीघ्र स्खलन (premature ejaculation) कहते हैं। 

यह अनैच्छिक स्खलन के रूप में परिभाषित होता है, जो लिंग प्रवेश के तुरंत बाद ही घटित हो जाता है। कुछ केस में तो मर्द अपना लिंग योनी मुख पे रखते ही या फिर उससे भी पहले स्खलित हो जाता है।

शीघ्रपतन की समस्या (Problem of PE)

शीघ्रपतन का इलाज, premature ejaculation in hindi

जिस प्रकार औरतों में सामान्य सेक्स समस्या चरमोत्कर्ष (orgasm) को प्राप्त न करना होता है, ठीक उसी प्रकार शीघ्रपतन या शीघ्र स्खलन (premature ejaculation) मर्दों की सामान्य सेक्स समस्या होती है।

मर्दों की यह एक आम सेक्स समस्या है, जिसपे अगर ध्यान न दिया जाए तो उनका वैवाहिक जीवन भी प्रभावित हो सकता है, क्योंकि एक सुखी दाम्पत्य का नींव ही सेक्स होता है।

मर्द का समय से बहुत पहले ही स्खलित हो जाने की वजह से औरत अतृप्त ही रह जाती है। जब औरत अतृप्त होती है, तब दाम्पत्य जीवन भी अतृप्त ही रह जाता है।

अतः जितना जल्द हो सके शीघ्रपतन की समस्या से मुक्त होने का प्रयास कर लेना चाहिए, वरना दाम्पत्य जीवन को ग्रहण लगने का खतरा बन जाता है।

सेक्स केवल अपने यौन आनंद का एकमात्र जरिया भर नहीं होता, बल्कि इसके जरिये अपने साथी को भी यौन आनंद प्रदान करना होता है।

अतः अपने और अपने साथी की सेक्स संतुष्टि के लिए अन्य उपायों के बारे में भी विचार करें, ताकि वह परेशान न हो।

 शीघ्रपतन के कारण क्या हैं (Reasons for premature ejaculation)

सामान्य रूप से शीघ्रपतन के मुख्य कारण मनोवैज्ञानिक ही होते हैं। पूरी दुनिया में लगभग 30% लोग शीघ्र स्खलन के शिकार हैं, लेकिन उनमें से मात्र 1 से 3 % ही लोग ऐसे होते हैं जिन्हें शीघ्रपतन का शारीरिक दोष होता है।

मनोवैज्ञानिक कारण वो होते हैं जो मर्द के दिमागी हालात और उसकी मानसिक स्थितियों से जुड़े होते हैं। ये मानसिक परेशानियाँ कुछ भी हो सकती हैं, जैसे- मानसिक तनाव, अवसाद, घबराहट, अतीत में यौन इच्छाओं का दमन, अतीत में यौन उत्पीड़न का शिकार होना, किसी बात को लेकर कुंठाग्रस्त होना, आत्मविश्वास की कमी, सेक्स के समय एकांत की कमी, आत्मविश्वास का आभाव, यौन-शिक्षा का सही ज्ञान न होना, इत्यादि।

सबसे ख़ुशी की बात ये है कि ये मनोवैज्ञानिक कारण स्थायी नहीं होते हैं। इनका सरल और आसान इलाज उपलब्ध है। कुछ केसेस में समय के साथ शीघ्र पतन (PE) की समस्या से स्वयं ही निजात मिल जाती है।

शीघ्रपतन का इलाज (Remedy of premature ejaculation)

शीघ्रपतन क्या है

शीघ्रपतन का इलाज कई तरीकों से किया जाता है। सबसे ज्यादे कारगर और मत्वपूर्ण इलाज और उपायों के बारे में हम यहां जिक्र कर रहे हैं, जिन्हें अमल में लाकर इस समस्या से हमेशा-हमेशा के लिए मुक्त हुआ जा सकता है। 

ये और कुछ नहीं, बल्कि असरदार और कारगर टेक्निक्स हैं, जिन्हें सेक्स के समय अप्लाई करके शीघ्रपतन (premature ejaculation) से बचा जा सकता है।

शीघ्रपतन कैसे दूर करें?

यहाँ हम मर्दाना कमजोरी दूर करने के और शीघ्र स्खलन रोकने के जो भी तरीके बतलाने वाले हैं उनमें से कुछ तरीके मनोवाज्ञानिक हैं तो कुछ आयुर्वेदिक हैं, कुछ तरीके एक्सरसाइज से सम्बंधित हैं तो कुछ सेक्स की परफेक्ट टेक्निक्स पे आधारित हैं। 

1. किगल एक्सरसाइज द्वारा शीघ्रपतन का इलाज (Pelvic floor muscle exercise)

यह सेक्स स्टैमिना और सेक्स पॉवर बढ़ाने की दुनियां की सबसे बेस्ट और अद्भुत एक्सरसाइज है। विदेशों में तो किगल एक्सरसाइज की ट्रेनिंग देने के बहुत सारे सेंटर खुल गये हैं, जो मोटी रकम लेने के बाद ही अपनी ट्रेनिंग की सुविधाएं प्रदान करते हैं।

किगल मस्सल को पेल्विक फ्लोर मस्सल भी कहते हैं, और इस मस्सल के एक्सरसाइज को Pelvic floor muscle exercise या Kegel exercise कहते हैं।

सेक्स स्टैमिना या सेक्स पॉवर बढ़ाने की यह एक अद्भुत और कारगर एक्सरसाइज है। यह सिर्फ शीघ्रपतन से पीड़ित लोगों के लिए ही नहीं, बल्कि यौन क्षमता से भरपूर हृष्ट-पुष्ट मर्दों के लिए भी उतना ही कारगर और उपयोगी है। अपनी सेक्स प्लीजर बढ़ाने के लिए औरतें भी किगल एक्सरसाइज को करती हैं।

किगल मस्सल या पेल्विक फ्लोर मस्सल हमारे हिप के पेल्विक रीजन के अंदर वाले भाग में होता है। इस मस्सल का पता हमें सिर्फ अनुमान से लगाकर ही इस एक्सरसाइज को करना होता है।

पेल्विक फ्लोर मस्सल का पता लगाने का सबसे बेस्ट तरीका है- “पेशाब करते समय अपनी पेशाब को बीच में ही रोकने का प्रयास करें, अब जिन मांसपेशियों पे बल डालकर पेशाब की धार को बीच में ही रोक देते हैं, वही मांसपेशियां पेल्विक फ्लोर मस्सल कहलाती हैं।”

पेल्विक फ्लोर मस्सल का सही-सही पता चल जाने के बाद हमारा अगला स्टेप होता है किगल एक्सरसाइज करना।

 कीगल एक्सरसाइज कैसे करें?

किगल एक्सरसाइज को करने के लिए सबसे पहले पीठ के बल लेट जाएँ। फिर अपनी किगल मस्सल (Pelvic floor muscle) को 3 सेकंड्स के लिए सिकोड़ें, और फिर इसे 3 सेकंड्स के लिए रिलैक्स छोड़ दें। इस दरम्यान अपनी जांघों या नितम्बों की मांसपेशियों को बिलकुल फ्री छोड़ दें, उन्हें कसें नहीं।  इसे कम से कम दस बार करें।

प्रतिदिन कम से कम 3 बार किगल एक्सरसाइज के इस महत्वपूर्ण अभ्यास को जरुर करें।

शुरुआत में हो सकता है कि इस किगल एक्सरसाइज को सही-सही करने में आपको अटपटा लगे, लेकिन चंद दिनों के अभ्यास से ही आप किगल एक्सरसाइज करने में पारंगत हो जायेंगे।

फिर कुछ समय बाद अपनी पेल्विक फ्लोर मस्सल को और भी मजबूत बनाने के लिए सेकंड्स की संख्या को थोडा बढ़ा दें। जब आप किगल एक्सरसाइज करने में पारंगत हो जाएँ, तब बैठकर या फिर खड़े होकर भी इस एक्सरसाइज को करें।

2. स्टॉप-स्टार्ट विधि द्वारा शीघ्रपतन का इलाज (Stop & Start method)

इसे शीघ्र स्खलन की कारगर इलाज के रूप में जाना जाता है। इस विधि के अनुसार, सेक्स को स्खलित (discharge) होने तक लगातार जारी नहीं रखना होता है। बीच-बीच में छोटा-छोटा ब्रेक लेना होता है।

सेक्स सेसन के दौरान स्खलन का आवेग (Pressure of discharge) से पहले अपने आप को बिलकुल रोक लें। चंद सेकंड्स के बाद फिर से सेक्स करना शुरू कर दें। ऐसा बार-बार करें। 

ऐसा करने से आप बहुत देर तक सेक्स के प्लेग्राउंड में टिक कर इच्छा अनुसार देर तक बैटिंग कर सकते हैं।

स्टार्टिग में हो सकता है कि बीच में ही सेक्स को स्टॉप करने में आपको थोड़ी असुविधा महसूस हो, लेकिन कुछ दिनों के बाद ही आप बिलकुल अभ्यस्थ हो जायेंगे।

“शीघ्रपतन के इलाज” की यह सबसे सरल और कारगर विधि है।

3. स्टॉप-स्क़ुईज विधि द्वारा शीघ्रपतन का इलाज (Stop & Squeeze method)

शीघ्र स्खलन (premature ejaculation) को रोकने में यह विधि भी बहुत कारगर है। लेकिन इसमें थोड़ी विशेष जानकारी और सावधानी की जरूरत होती है।

स्खलित होने से ठीक पहले अपने लिंग को बाहर निकाल लें। फिर लिंग के सुपाड़े (Head portion of penis) को अपने हाथों से धीरे-धीरे निचोड़ें। इस काम के लिए आप अपनी पत्नी या प्रेमिका के हाथों की भी सेवाएँ ले सकते हैं। लगभग 30 सेकंड्स बाद फिर से सेक्स करना शुरू कर दें। अपनी इच्छा अनुसार इस प्रोसेस को बार-बार दुहरा सकते हैं, जब तक संभव हो।

शीघ्रपतन का इलाज के रूप में इस विधि के इस्तेमाल से आपकी सेक्स स्टैमिना में बहुत वृद्धि होगी।

4. शोर्ट शॉट मेथड द्वारा शीघ्रपतन का इलाज (Short shot method)

सेक्स की इस विधि में लगातार सेक्स के बड़े-बड़े और डीप (deep) शोर्ट नहीं मरने होते हैं। बीच-बीच में अपनी इच्छा अनुसार, छोटे-छोटे और आधे (half) शॉट मारने होते हैं।

सेक्स के बीच में ही अपने लिंग को बाहर निकाल लें, और फिर सिर्फ आधे लिंग को ही अंदर घुसेड़कर सेक्स करें। कुछ देर बाद फिर से लिंग को बाहर निकाल लें, और फिर पूरा लिंग घुसेड़कर सेक्स करें। इसे बार-बार रिपीट करें।

इससे आप बहुत देर तक अपने आप को रोकने में सफल हो पाएंगे। 

इसके अलावा, अगर संभव हो सके तो सेक्स सेसन के बीच-बीच में अपने दिमाग को सेक्स से बाहर कहीं और केन्द्रित करने की कोशिश करें या फिर सेक्स की अन्य गतिविधियों की तरफ ध्यान केन्द्रित करें। इससे भी आपको देर तक ठहरने में मदद मिलेगी।

5.एक्स्ट्रा टाइम कंडोम के इस्तेमाल से शीघ्रपतन का इलाज

शीघ्रपतन की समस्या

मार्किट में Thick condom / Extra Time Condoms / Delay Condoms, इत्यादि नाम से अनेकों ब्रांड्स के कंडोम मौजूद हैं, जिनके इस्तेमाल से मर्द जल्द स्खलित (discharge) नहीं होता है।

इन कंडोम्स की बनावट ही कुछ ऐसी होती है, जिससे कि सेक्स की लम्बी पारी खेलने में मदद मिले। ये कंडोम्स उन मर्दों के लिए किसी वरदान से कम नहीं हैं जो शीघ्रपतन या शीघ्र स्खलन से पीड़ित हैं।

अत्यधिक सेक्स करने के शौक़ीन, या फिर जो सेक्स के पिच पे जो बहुत देर तक बैटिंग करना चाहते हैं, ऐसे लोग इन Thick condom / Extra Time Condoms / Delay Condoms का इस्तेमाल जरुर करते हैं, क्योंकि यह उनकी स्ट्रोंग सेक्स क्षमता के अलावा भी स्खलित होने में और भी देर करता है।

ये क्लाइमेक्स कंट्रोल कंडोम उन लेटेक्स सामग्री से बने होते हैं जो सेक्स क्लाइमेक्स (चरमोत्कर्ष) में देरी करने के लिए जाने जाते हैं।

6.घरेलु उपचार से शीघ्रपतन का इलाज 

1.अश्वगंधा (Ashwagandha):-

यह एक भारतीय जड़ी-बूटी (औषधीय पौधा) है। मर्दों में “शीघ्रपतन के इलाज” में यह एक बहुत ही प्रभावी औषधि है। यह मर्दों में सेक्स के दौरान समय से पूर्व स्खलन (discharge)को नियंत्रित करता है और सेक्स समय को लम्बा करता है। 

2.अदरक और शहद:- 

अदरक और शहद का मिश्रण कामोत्तेजक (aphrodisiacs) का काम करता है, जो सेक्स ड्राइव को बढ़ाने के साथ-साथ सेक्स के दौरान स्खलन को जल्द होने से रोकता है।

आधा चमच्च अदरक को शहद के साथ मिलाकर सोने से पहले खाने पे शीघ्र स्खलन की समस्या दूर होती है।

3.लहसुन (Garlic):- 

लहसुन में कामोत्तेजक गुण होता है। इसके नियमित सेवन से सेक्स की अवधी लम्बी होती है। इससे premature ejaculation यानि PE की समस्या से निजात मिलती है।

“शीघ्रपतन के कारण” के सम्बन्ध में कुछ मिथक 

1.क्या अत्यधिक हस्तमैथुन करने से शीघ्रपतन की समस्या उत्पन्न होती है?

हस्तमैथुन, शारीरिक सेक्सुअल आवेग को शांत करने का एक तरीका मात्र होता है। इससे शीघ्रस्खलन से कोई लेना-देना नहीं है। ऐसा सोचना, मात्र एक मिथक है। सेक्स से एक या दो घंटे पहले हस्तमैथुन कर लेने से, सेक्स के दौरान स्खलित होने में देरी होती है, यानि कि सेक्स सेसन लम्बा खिंचता है।

2.क्या शीघ्रस्खलन की समस्या सिर्फ मनोवैज्ञानिक कारणों से ही होती है?

यह सही है कि शीघ्रस्खलन की अधिकांशतः समस्या अलग-अलग मनोवैज्ञानिक कारणों से होती है, लेकिन कुछ केस में यह शारीरिक कारणों से भी होती है।

यदि शीघ्र स्खलन की समस्या का कारण शारीरिक है, तब अपने डॉक्टर से सम्पर्क कर उचित इलाज कराएँ, वरना यह समस्या और भी जटिल हो सकती है।

निष्कर्ष : शीघ्रपतन का इलाज 

शीघ्रपतन या शीघ्रस्खलन (premature ejaculation), मर्दों की एक सामान्य सेक्स समस्या है, जो विभिन्न आयु वर्ग के मर्दों की सेक्स लाइफ को प्रभावित करती है।

अगर यह समस्या मनोवैज्ञानिक या फिर छोटे-मोटे कारणों से है, तब तो इन उपायों को अमल में लाकर इससे मुक्ति पाई जा सकती है।

लेकिन अगर इन कारगर उपायों से भी कोई फायदा नहीं होता है, तब किसी योग्य चिकित्सक से इलाज कराना उचित और जरुरी होगा। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *